आईपीएल-12 : आईपीएल विजेता बनी मुंबई इंडियंस, आखिरी गेंद पर टूटा धोनी का ख्वाब

0
62
Indian Premier League

मुंबई इंडियंस ने रविवार को आईपीएल-12 के फाइनल में अपनी चिर प्रतिद्वंद्वी चेन्नई सुपर किंग्स को आखिरी ओवर में बाजी पलट एक रन से हराकर चौथी बार इंडियन प्रीमियर लीग की ट्रॉफी को अपने नाम किया।

मुंबई की टीम ने आईपीएल-12 के फाइनल मुकाबले में 8 विकेट पर 149 रन बनाए, लेकिन चेन्नई की टीम 20 ओवरों में सात विकेट पर 148 रन ही बना पाई।

मुंबई की टीम ने इससे पहले 2013, 2015 और 2017 में खिताब जीते थे। वह चार बार खिताब जीतने वाली पहली टीम है। चेन्नई ने तीन बार खिताब जीते हैं। महज एक रन का अंतर चेन्नई को चौथी जीत से वंचित कर गया।

Indian Premier League

चेन्नई के लिए आखिरी ओवर तक सब सही जा रहा था, लेकिन शेन वाटसन (80) के रन आउट होने से बाजी पलट गई। आखिरी गेंद पर चेन्नई को जीत के लिए दो रन चाहिए थे।

लसिथ मलिंगा ने इसी गेंद पर शार्दूल ठाकुर को पगबाधा आउट करा मुंबई के खाते में चौथा आईपीएल खिताब डाला। चेन्नई 20 ओवरों में सात विकेट के नुकसान पर 148 रन ही बना सकी।

वाटसन ने 59 गेंदों पर आठ चौके और चार छक्के मारे। वाटसन को इस मैच में तीन जीवनदान भी मिले, लेकिन वह फिर भी चेन्नई को जीत नहीं दिला पाए। इसी के साथ मुंबई ने एक बार फिर चेन्नई को फाइनल जीतने से रोक दिया।

150 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी चेन्नई ने तेज शुरुआत की, लेकिन मुंबई ने तुरंत वापसी करते हुए उसे परेशान किया। लगातार बड़े शॉट मार रहे फाफ डु प्लेसिस (26) को क्रुणाल पांड्या ने क्विंटन डी कॉक के हाथों स्टम्पिंग कराया।

वह 33 के कुल स्कोर पर आउट हुए। वाटसन और सुरेश रैना (8) ने टीम का स्कोर 70 तक पहुंचाया। रैना इसी स्कोर पर आउट हो गए। इसके बाद अंबाती रायडू (1) जसप्रीत बुमराह का शिकार बने तो महेंद्र सिंह धोनी (2) को ईशान किशन ने डायरेक्ट हिट पर आउट कर पवेलियन भेजा।

इससे पहले बल्लेबाजी की दावत मिलने पर पहली पारी खेलने उतरी मुंबई बड़ा स्कोर नहीं कर पाई। आखिरी के पांच ओवरों में केरन पोलार्ड के रहते हुए मुंबई 47 रन ही बना पाई और इस दौरान उसने तीन विकेट खो दिए।

पोलार्ड ने आखिरी ओवर की आखिरी दो गेंदों पर दो चौके मारे लेकिन इससे पहले इसी ओवर में ड्वायन ब्रावो ने उन्हें रोके रखा। पोलार्ड ने 25 गेंदों पर नाबाद 41 रनों की पारी खेली जिसमें तीन चौके और तीन छक्के शामिल रहे।

रोहित शर्मा (15) और क्विंटन डी कॉक (29) ने शुरुआत से तेजी दिखाई और ठाकुर तथा चाहर पर बड़े शॉट्स लगाए। दोनों की आक्रामकता ज्यादा देर रह नहीं पाई। ठाकुर ने 45 के कुल स्कोर पर डी कॉक को आउट किया तो इसी स्कोर पर अगले ओवर में चाहर ने रोहित को महेंद्र सिंह धोनी के हाथों कैच कराया।

उसे युवा बल्लेबाज ईशान किशन और मुंबई के अनुभवी खिलाड़ी सूर्यकुमार यादव ने स्कोरबोर्ड चालू रखा। इन दोनों ने 11 ओवरों में मुंबई के स्कोरबोर्ड पर दो विकेट के नुकसान पर 80 टांग दिए थे। चेंज पर गेंदबाजी करने आए ताहिर के ओवर की दूसरी गेंद पर सूर्यकुमार बोल्ड हो गए। सूर्यकुमार ने 17 गेंदों पर एक चौके की मदद से 15 रन बनाए।

रैना ने 18वें ओवर की दूसरी गेंद पर हार्दिक का आसान का कैच छोड़ उन्हें एक जीवनदान दिया जिसका फायदा हार्दिक नहीं उठा सके और अगले ओवर में चाहर का शिकार बने। इसी ओवर में चाहर ने अपने भाई राहुल चाहर को बिना खाता खोले पवेलियन भेज मुंबई का स्कोर सात विकेट पर 140 रन कर दिया।

आखिरी ओवर में ब्रावो ने ज्यादा रन खर्च नहीं किए और मुंबई की बड़े स्कोर की आस धरी रह गई। चेन्नई के लिए दीपक चाहर ने तीन विकेट लिए। शार्दूल ठाकुर और इमरान ताहिर को दो-दो सफलताएं मिलीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here