फिर हो सकती है करतारपुर कॉरिडोर पर बातचीत, बस करना होगा इस वक्त का इंतजार

0
224
करतारपुर कॉरिडोर

लोकसभा चुनाव के बाद भारत में नई सरकार के साथ ही पाकिस्तान करतारपुर कॉरिडोर समझौते को अंतिम रूप देने के लिए दोनों देशों में बातचीत फिर शुरू होने की उम्मीद है। यह दावा मीडिया की ओर से किया जा रहा है। इस कॉरिडोर के शुरू होने के बाद भारतीय सिख बिना वीजा के पाकिस्तान स्थित अपने पवित्र स्थान जा सकेगे।

खबरों के मुताबिक भारत में नई सरकार बनने के बाद पाकिस्तान करतारपुर गलियारे पर बातचीत फिर से शुरू करने के पक्ष में है। एक वरिष्ठ पाकिस्तानी अधिकारी का कहना है कि इस मामले में पाकिस्तान की ओर से कोई देरी नहीं हुई है। इस वक्त भारत इस मामले में आगे नहीं बढ़ना चाहता।

हालांकि अधिकारी ने कहा कि पाकिस्तान को विश्वास है कि चुनाव के बाद भारत बातचीत फिर से शुरू करेगा।

दोनों देशों के बीच 16 अप्रैल को करतारपुर कॉरिडोर की रूपरेखा पर चर्चा हुई थी। जिसमे दोनों देशों के बीच तकनीकी विशेषज्ञों और विदेश कार्यालय के अधिकारियों ने जीरो पॉइंट (करतारपुर) में भाग लिया था।

भारतीय दल को अप्रैल में पाकिस्तान जाना था लेकिन अंतिम समय में नई दिल्ली में हुई बैठक में वहां ना जाने का फैसला लिया गया। भारत ने 10 सदस्यों वाली पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी (पीएसजीपीसी) में कई खालिस्तानी अलगाववादियों के शामिल होने को लेकर चिंता व्यक्त की है।

गौरतलब है कि गुरुनानक देवजी ने करतारपुर साहब में अपने जीवन के 18 साल बिताए थे। करतारपुर साहिब डेरा बाबा नानक गुरुद्वारे से करीब चार किमी की दूरी पर रावी नदी के पार पाकिस्तान के नरोवाल जिले में स्थित है।

पाकिस्तान करतारपुर में गुरुद्वारा दरबार साहिब से भारतीय सीमा तक कॉरिडोर का निर्माण करेगा। वहीं पंजाब के गुरदासपुर जिले में डेरा बाबा नानक से सीमा तक दूसरे हिस्से का निर्माण भारत करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here