दिल्ली में खतरनाक स्तर पर पहुंची हवा की गुणवत्ता, सीपीसीबी ने जारी की गाइडलाइन

0
17
दिल्ली

राजधानी दिल्ली में उत्तर पश्चिम भारत में धूल भरी आंधी चलने से प्रदूषण खतरनाक स्तर पर पहुँच गया। सिस्टम आफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (सफर) ने यह जानकारी दी। सफर ने वायु गुणवत्ता सूचकांक 408 दर्ज किया जो गंभीर श्रेणी में आता है।

वहीं केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने वायु गुणवत्ता सूचकांक 347 दर्ज किया जो बहुत खराब श्रेणी में आता है।

इसके साथ ही सफर ने ऐसे एहतियाती उपायों की सूची जारी की जिन्हें लोगों को ‘गंभीर’ वायु गुणवत्ता के समय अपनाना चाहिए। सफर ने कहा,‘‘आज घूमने से परहेज करें। खांसी आने, सीने में परेशानी महसूस होने, सांस लेने में कठिनाई होने अथवा थकान महसूस होने पर चिकित्सक से संपर्क करें और किसी भी प्रकार की बाह्य गतिविधि को रोक दें।’’

सफर ने कहा कि पूरा उत्तर पश्चिम भारत धूल भरी आंधी की चपेट में है और गुरुवार तथा शुक्रवार को वाणु गुणवत्ता सूचकांक गंभीर से बेहद खराब की श्रेणी में रह सकता है। 10 मई के बाद वायु गुणवत्ता में सुधार के आसार हैं।

दिल्ली-एनसीआर में हवा में मौजूद सूक्ष्म कण सघनता में अचानक वृद्धि को देखते हुए सीपीसीबी ने अपने कार्य बल की आपात बैठक बुलाई है।

बैठक के ब्योरे के अनुसार, ‘दिल्ली- एनसीआर में शुक्रवार तक मजबूत सतही हवा चलने के आसार हैं। आईआईटीएम से सूचना मिली है कि पश्चिमी राजस्थान तथा उत्तरी गुजरात से उठा धूल का गुब्बार दोपहर तक दिल्ली तक पहुंच सकता है।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here