दुनिया के 5 सबसे खतरनाक टैंक जिसे हर देश चाहता है अपने पास

0
367

दुनिया में सबसे हर देश के पास टैंक हैं। टैंकों के मामले में भी इस देश ने सालों पहले ही उन्नति की दास्तान शुरू कर दी थी। आज हम आपको बताएंगे दूनिया के सबसे खतरनाक टैंक

पैटन टैंक

पैटन टैंक का अपग्रेडेड रूप ही अब्राम्स टैंक हैं। ये टैंक अब्राम्स टैंक Sके रूप में सामने आने से पहले अमेरिकी सेना की शान हुआ करते थे। जिसपर किसी भी देश को नाज होता है। हालांकि भारत-पाकिस्तान युद्ध के बाद इसकी डिजाइन में बदलाव कर दिया गया और पैटन टैंक ही अब्राम्स टैंक के रुप में सामने आए। पैंटन टैंक का वजह भी लगभग 60 टन है, जिसमें 105 एमएम तोपों के साथ ही एम60 राइफल इसे मजबूती देती हैं।

मेर्कवा-4

इजरायल टैंक मेर्कवा 4, आदर्श रूप मेंरेगिस्तान में लड़ने के लिए अनुकूलित, संभवतः टैंक बिल्डिंग के विश्व इतिहास में सबसे मूल और असामान्य युद्ध मशीन है। इजरायल खुद ही इसे अपने राष्ट्रीय गौरव मानते हैं, सैन्य इंजीनियरी की सर्वोच्च उपलब्धि सोचते हैं लगभग 65 टन वजनी इस टैंक की मुख्य ताकत 120 एमएम की तोप है। जो किसी भी लक्ष्य को तहस-नहस कर सकती है। इस टैंक पर एक साथ 6 लोग लड़ाई के मैदान में जा सकते हैं। टैंक में 1500 हॉर्सपॉवर का टर्बोजेट डीजल इंजन है, जो कम से कम 55 और अधिकतम 64 किमी की स्पीड से दुश्मन पर हमला बोलता है। इस टैंक के 4 संस्करण सामने आ चुके हैं।

टी-72

ये टैंक रूसी सेना की शान हैं, जिनमें समय समय पर बदलाव होते रहे हैं। इस टैंक का हल्का संस्करण भारतीय सेना के पास ‘भीष्म’ नाम से है। इस टैंक के उन्नत संस्करण की बात करें तो इसपर सवाल सैनिक पूरी तरह से सुरक्षित होता है। इस टैंक पर परमाणु बम के साथ ही जैविक हथियारों का भी कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। सिर्फ 41.5 टन वजनी इस टैंक में 125 एमएम तोप लगी है।

चैलेंजर II

चैलेंजर II, ब्रिटेन- कुल 86 लाख डॉलर की कीमत वाला यह असलाह दुनिया के सबसे विश्वसनीय और सुरक्षित टैंकों में से एक है। चैलेंजर ने ब्रिटेन में 1998 से अपनी सेवाएं देनी शुरू की। इसने बोस्निया, कोसोवो और इराक में भी जौहर दिखाए। इसके बख्तर के लिए बहुत ही उच्च स्तर के मिश्रण का इस्तेमाल किया गया है, जो स्टील से दोगुनी ताकत का है। 69 टन के इस टैंक में 1200 हॉर्स पावर का इंजन है। ब्रिटेन के अलावा, सिर्फ ओमान इस टैंक का इस्तेमाल करता है। कीमत है भारतीय मुद्रा में 52 करोड़ रुपए।

अर्जुन एमके II

भारतीय सेना में अपनी सेवाएं इसने 2004 में देनी शुरू की। इसका सबसे आधुनिक मॉडल अर्जुन एमके II है, जिसका वजन 55 टन है। पिछले दो साल के अपने ट्रायल के बाद ये मॉडल अब अपनी सेवाएं शुरू करने जा रहा है। इसमें पश्चिमी और रूसी टैंकों की कई खासियतें शामिल हैं। इसकी 120 एमएम की तोप से परंपरागत गोलों के साथ ही निर्देशित मिसाइलें भी दागी जा सकती हैं। इसका बख्तर स्टील और सेरेमिक से बना है। टैंक में लगा लेजर वार्निंग रिसीवर और जैमर विरोधियों की तरफ से होने वाले निर्देशित मिसाइल हमलों को रोकने में सक्षम है। भारत में इसकी कीमत- 60 लाख डॉलर यानी 36 करोड़ रुपए है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here