जॉर्ज फर्नांडीस ने इस तरह निभाया रक्षामंत्री का जिम्मा, सैनिकों के लिए हर दम रहते थे आगे

0
429
जॉर्ज फर्नांडीस ने इस तरह निभाया रक्षामंत्री का जिम्मा, सैनिकों के लिए हर दम रहते थे आगे -AB STAR NEWS

पूर्व रक्षामंत्री जॉर्ज फर्नांडीस का लंबी बीमारी के बाद 88 साल की उम्र में देहांत हो गया है…उन्होंने अपनी आखिरी सांस आज सुबह 7 बजे दिल्ली में ली…जॉर्ज फर्नांडीस के निधन से राजनैतिक गलियारों समेत पूरे देश में शोक की लहर है..जॉर्ज फर्नांडीस अब हमारे बीच नहीं रहे…लंबे समय से वे अल्जाइमर्स यानि भूलने की बीमारी से पीड़ित थे और कुछ दिनों पहले उन्हें स्वाइन फ्लू भी हो गया था…अटल सरकार में देश के रक्षामंत्री का जिम्मा फर्नांडिस ने बखूबी निभाया..वो ऐसे रक्षामंत्री थे जो अपने सैनिकों के लिए हर दम आगे रहते थे….मंत्री रहते हुए उन्होंने सियाचीन का दौरा रिकॉर्ड 30 बार से भी ज्यादा किया था।

3 जून 1930 को जन्मे जॉर्ज फर्नांडीस भारतीय ट्रेड यूनियन के नेता थे और पत्रकारिता के क्षेत्र में भी उन्होंने अपना अहम योगदान दिया..1967 में फर्नांडिस साउथ बॉम्बे से कांग्रेस के एस के पाटिल को हराकर पहली बार सांसद बने थे..1975 में जब इमरजेंसी लगी थी तो गिरफ्तारी से बचने के लिए फर्नांडिस ने सिर पर पगड़ी पहन ली थी और नकली मूंछे लगाकर वेश बदल लिया था…और फिर जब उनको गिरफ्तार किया गया तो वे जेल में साथी कैदियों को गीता के श्लोक सुनाया करते थे…..1975 की इमरजेंसी के बाद फर्रनांडीस ने इसका खूब विरोध किया और फिर बिहार के मुजफ्फर से चुनाव जीतकर संसद पहुंचे…मोरारजी सरकार में उद्योग मंत्री का जिम्मा संभालने के अलावा वीपी सरकार में फर्नांडीस ने रेल मंत्री का पद भी संभाला था

साल 1974 में जब फर्नांडिस ऑल इंडिया रेलवेमैन फेडरेशन के अध्यक्ष थे तो उन्होंने बड़ी रेल हड़ताल बुलाई थी..जिसके बाद देशभर की रेल व्यवस्था चरमरा गई थी..उनकी इस हडज़ताल को कई ट्रेड यूनियनों, बिजली विभाग और परिवहन कर्मचारियों ने भी समर्थन दिया था

साल 1967 से साल 2004 तक फर्नांडीस ने 9 लोकसभा चुनाव जीते…साल 2003 में विपक्ष ने कैग का हवाला देकर जॉर्ज फर्नांडीस पर ताबूत घोटाले के आरोप लगाये..लेकिन भला बेबाक छवि के फर्नांडीस को ये आरोप कहां डिगा सकते थे..उन्होंने भी विपक्ष को साफ शब्दों में चुनौती दे डाली थी…कहा था कि अगर विपक्ष ईमानदार है तो कल तक मुझे सबूत लाकर दे दे मैं इस्तीफा दे दूंगा..खैर मामले पर लंबी सुनवाई चली और फिर अक्टूबर 2015 में सुप्रीम कोर्ट ने फर्नांडीस को करगिल ताबूत घोटाले में पूरी तरह से निर्दोष करार दिया था

जॉर्ज फर्नांडीस 10 भाषाओं के जानकार थे..उनके निधन से राजनैतिक गलियारों में भी शोक की लहर है प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी ट्वीट कर शोक व्यक्त किया है..अपने ट्वीटर हैंडल पर प्रधानमंत्री मोदी ने लिखा है कि ‘जॉर्ज साहब भारत के सर्वश्रेष्ठ राजनेताओं का प्रतिनिधित्व करते थे। वे निडर और दूरदर्शी थे। गरीबों और हाशिए पर रहने वाले लोगों की वह सबसे असरदार आवाज थे। जब मैं उनके बारे में सोचता हूं तो एक साहसी ट्रेड यूनियन नेता की छवि उभरती है जो इंसाफ के लिए लड़ा।

वहीं राहुल गांधी ने भी फेसबुक पोस्ट कर अपनी संवेदना व्यक्त की है…राहुल गांधी ने अपने फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि वे जॉर्ज फर्नांडीस के निधन से दुखी हैं…सचमुच देश ने आज अपना एक सच्चा सिपाही खो दिया है..वो सिपाही जिसने अपनी हर एक जिम्मेदारी को बखूबी निभाया और हमेशा देश को सर्वोपरि माना।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here